Meri Saas Ke Panch Putra मेरी सास के पांच पुत्र Lyrics

Meri Saas Ke Panch Putra मेरी सास के पांच पुत्र Lyrics

Meri Saas Ke Panch Putra मेरी सास के पांच पुत्र Lyrics www.lyircs143.com

Meri Saas Ke Panch Putra Song Lyrics एक नया हरियाणवी लोक गीत है। इस गाने को निकिता ने गाया है। मेरी सास के पंच पुत्रा गाने के बोल पारंपरिक हैं। इस गीत की प्रसिद्ध पंक्ति में से एक है 'मेरे करम मेरे बावलिया लिख्या था'। रिंकू गुजराल द्वारा संगीत और संगीत लेबल ललित डिजिटल मीडिया है। आनंद लें गीत मेरी सास के पंचपुत्र गीत

गीत - मैरी री सास या पांच बेटे
गायक - निकिता
संगीत - रिंकू गुजराल
लेबल - शुल्क के लिए डिजिटल वीडियो

Meri Saas Ke Panch Putra मेरी सास के पांच पुत्र Lyrics 

मेरी री सास के पांच पुत्र थे
2 देवर 2 जेठ सुणियो
मेरे री करम म बावलिया लिख्या था
वो भी गया परदेश सुणियो

(संगीत)

12 री बरस म बावलिया घर आया
बरसै मूसलधार सुणियो
मेरा तो ल्याया घूम घाघरा
अपणी ल्याया पतलून सुणियो

मेरी री सास के पांच पुत्र थे
2 देवर 2 जेठ सुणियो

(संगीत)

सास भी सोगी सुसरा भी सोग्या
चौबारे बिछा लाई खाट सुणियो
मैं भी सोगी बावलिया भी सोग्या
घर म बड़ गए चोर सुणियो

मेरी री सास के पांच पुत्र थे
2 देवर 2 जेठ सुणियो

(संगीत)

मेरा तो ले गए घूम घाघरा
बावलिये की ले गए पतलून सुणियो
मैं तो रोई सुबक सुबक क
बावलिये न मारी किलकार सुणियो

मेरी री सास के पांच पुत्र थे
2 देवर 2 जेठ सुणियो

(संगीत)

मन्नै तो जगाई अपणी देवराणी जेठाणी
बावलिये न सारा गाम सुणियो
मेरी री सास के पांच पुत्र थे
2 देवर 2 जेठ सुणियो
मेरे री करम म बावलिया लिख्या था
वो भी गया परदेश सुणियो

Post a Comment

0 Comments